June 12, 2011

पुकारा तुम्हें

पुकारा तुम्हें
तो आवाज़ ही लौटी
तुम न आये ।


-कृष्ण शलभ
( इन्द्र धनुष हाइकु कविता संग्रह से )

1 comment:

डा० व्योम said...

बहुत मार्मिक बात कही गई है इस हाइकु के माध्यम से। बुजुर्गों की उपेक्षा का दंश भी कहीं इसमें झलक रहा है।