June 10, 2011

बज उठते

बज उठते
सन्नाटे के घुँघरू
पाखी के स्वर ।



- डा० सुधा गुप्ता
( " चुलबुली रात ने " हाइकु संग्रह से )

No comments: