June 10, 2011

समुद्र नहीं

समुद्र नहीं
परछाईं अपनी
लाँघो तो जानें ।




- कमलेश भट्ट कमल
( " अमलतास " हाइकु संग्रह से )

No comments: