August 7, 2011

चींटों से घिरा

चींटों से घिरा
छटपटाता केंचुआ
कहाँ हो प्रभु ।



-आदित्य प्रताप सिंह
( साँसों की किताब से )

No comments: