August 28, 2011

कारी डोंगरी

कारी डोंगरी
उकडूँ बैठी रही
विहान तक ।



-डा० राजेन जयपुरिया
( हाइकु दर्पण मार्च 2004 से साभार )

No comments: