August 28, 2011

रोए पहाड़

रोए पहाड़
आँसू सहस्रधार
बहे झरना ।



-मनोज सोनकर
(खुर्दबीन हाइकु संग्रह से)

No comments: