September 4, 2011

मेघ रीतते

मेघ रीतते
इसीलिए भरते
वे फिर फिर ।



-डा० सुरेन्द्र वर्मा
( हाइकु दर्पण, अंक-8 से )

No comments: