September 18, 2011

उछल रहे

उछल रहे
बादलों की गोद में
बाल-खरहे ।


-रामनिवास पंथी

No comments: