September 4, 2011

नदिया चली

नदिया चली
मरु-आँगन फँसी
भोली नादान ।



-उर्मिला कौल

(हाइकु पत्र-6, मई-1979 से )

No comments: