September 18, 2011

पिघल बही

पिघल बही
कल-कल झरने में
पर्वत-व्यथा ।



-कमलकिशोर गोयनका
( हाइकु पत्र- 17, मई 1982 )

No comments: