November 21, 2011

शाम होते ही

शाम होते ही
झुका सूरज, लाल
हो गई नदी।


-डा० सुरेन्द्र वर्मा
( 'धूप कुंदन' हाइकु संग्रह से साभार)

No comments: