August 26, 2012

पतझर में


पतझर में
बैठा उघारे तन
सूना जंगल।


-शम्भूदयाल सिंह ‘सुधाकर’
[हाइकु-१९८९ से साभार]

No comments: