August 26, 2012

जाते–जाते भी


जाते–जाते भी
देके ही जाता सूर्य
रंगीन शाम।

-सत्यपाल चुघ
[हाइकु-१९८९ से साभार]

No comments: