September 24, 2012

नाक पे बैठी


नाक पे बैठी
पानी चुआती रही
शीत हठीली


-राधेश्याम
(हाइकु पत्र- 23,  जन. 1986 से साभार)

No comments: