September 24, 2012

गाँव ने रचीं


गाँव ने रचीं
खेतों में कविताएँ
लहलहातीं


-पारस दासोत
(आ चलें गाँव, हा.सं. से साभार)

No comments: