July 19, 2013

बूंदों के बूटे


बूंदों के बूटे
धरा की ओढ़नी पे
नभ ने काढ़े


-डा० सरस्वती माथुर
[फेसबुक हाइकु समूह से

No comments: