January 8, 2014

उदास ठूँठ

उदास ठूँठ
पाया ओस का स्पर्श
हँसी कोपलें

-अरुण सिंह रुहेला
[फेसबुक हाइकु समूह से]

1 comment:

vibha rani Shrivastava said...

सार्थक हाइकु
God Bless