February 26, 2015

ओढ़ के रात

ओढ़ के रात
चैन से सो रहे हैं
ऊँचे चिनार

-राजीव गोयल
[फेसबुक हाइकु समूह से]

No comments: