July 19, 2011

बगुले उड़े

बगुले उड़े
आकाश बेल छूने
उन्मुक्त होने ।



-रामनिवास पंथी
('वर्तमान की आँखें' हाइकु संग्रह से)

No comments: