October 6, 2011

बंदूक पर

बंदूक पर
टँगा है फौजी कोट
साथ में चर्खा ।



- बलदेव वंशी
( हाइकु पत्र-19, अक्टूबर -1982 )

No comments: