October 6, 2011

कूकी कोयल

कूकी कोयल
डोला मन भँवरों का
बौराये आम ।


-शैल सक्सेना
( हाइकु पत्र-20, मार्च-1983 )

No comments: