January 14, 2012

तपन देख


तपन देख
आँधी ने खोल दिये
वर्षा के द्वार।

-डा० वेदज्ञ आर्य

(हाइकु पत्र 22,  अगस्त-1984 से साभार)

No comments: