June 3, 2012

साँझ की बेला


साँझ की बेला
पंछी ॠचा सुनाते
मैं हूँ अकेला ।


-रामेश्वर काम्बोज हिमांशु

No comments: