June 3, 2012

ले पिचकारी


ले पिचकारी
प्रकृति ने रॅंग दीं
तितलीं सारी।


-सन्तोष कुमार सिंह

No comments: