August 26, 2012

रचता नीड़


रचता नीड़
ले आता बहू नई
रसिया बया।


-सुरेश चन्द्र वात्स्यायन
[हाइकु-१९८९ से साभार]

No comments: