August 26, 2012

साँझ होते ही


साँझ होते ही
अँधियारा बौराया
घूमता फिरा।


-डा० शैल रस्तोगी
[हाइकु-१९८९ से साभार]

No comments: