October 27, 2012

पकड़ लेते हैं


पकड़ लेते हैं
एक दूसरे की बाँह
धूप और छाँह


-डा० मिथिलेश दीक्षित

No comments: